Thursday, May 30, 2024
Homeहेल्थ / लाइफस्टाइलHealth Insurance New Rules: अब कैंसर पेशेंट भी ले सकेंगे हेल्थ इंश्योरेंस,...

Health Insurance New Rules: अब कैंसर पेशेंट भी ले सकेंगे हेल्थ इंश्योरेंस, जारी हुई नई पॉलिसी

- Advertisement -

India News Rajasthan (इंडिया न्यूज़), Health Insurance New Rules: भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने अपने नियमों में 1 अप्रैल 2024 से नए बदलाव किये है। पहले केवल 65 की आयु तक के लोग पॉलिसी खरीद सकते थे, अब कोई भी व्यक्ति किसी भी उम्र में हेल्थ इंशोरेंस पॉलिसी खरीद सकता है।

सभी आयु के लिए डिज़ाइन होगी पॉलिसी
IRDAI ने सुचना दी है, ‘बीमाकर्ता को यह सुनिश्चित करना होगा की सभी आयु के लोगों के अनुसार बीमा पॉलिसी बनानी होगी, जैसे की छात्रों, बच्चों, वरिष्ठ नागरिकों, मातृत्व और सक्षम प्राधिकारी द्वारासभी समूह के लिए पॉलिसी डिजाइन करनी होगी।

क्लेम और शिकायत के लिए बनेंगे अलग चैनल
IRDAI ने क्लेम और शिकायतों को तेजी से निपटाने के लिए स्वास्थ्य बीमा प्रदाताओं को वरिष्ठ नागरिकों,या अन्य समुदाय के नागरिकों के लिए अलग नीतियां पेश करने के लिए समर्पित चैनल बनाने के लिए निर्देश दिए है। एक उद्योग विशेषज्ञ का कहना है, ‘यह एक अच्छा बदलाव है, क्योंकि यह अब स्वास्थ्य पॉलिसी लेने के लिए 65 वर्ष से ज़्यादा उम्र के लोगों के लिए मददगार साबित होगा ।

गंभीर बिमारी वालों को भी देनी होगी पॉलिसी
जारी की गई सुचना के अनुसार बीमाकर्ताओं को अब कैंसर, हृदय या गुर्दे के फ़ैल होने या एड्स जैसी गंभीर बिमारी वाले व्यक्तियों को भी पॉलिसी देनी होगी। कोई भी बीमा कंपनी गंभीर बिमारी से ग्रस्त लोगों को पॉलिसी के लिए मन नहीं कर सकती। IRDAI ने स्वास्थ्य बीमा के वेटिंग पीरियड को भी 48 महीने से घटाकर 36 महीने तक का कर दिया है।बिमा के नए नियमों के अनुसार , सभी पहले से मौजूदा स्थितियों को 36 महीने के बाद कवर किया जाना होगा, भले ही पॉलिसीधारक ने पहले उनके बारे में बताया हो या नहीं।

नियम में है अहम् बदलाव
हेल्थ इंशोरेंस कंपनियों को 36 महीनों के बाद पहले से मौजूद स्थितियों के आधार पर दावों को खारिज करने से प्रतिबंधित किया जा रहा है। क्षतिपूर्ति-आधारित स्वास्थ्य पॉलिसियां बीमा कंपनियों को शुरू करने से रोका जा रहा है , जिससे अस्पताल के खर्चों की भरपाई होती है। अब उन्हें केवल लाभ-आधारित नीतियां प्रदान करने का निर्देश दिया गया है। जो बिकमारियाँ कवर करने के लिए निश्चित लागत ही देती है।

ये भी पढ़ें-

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular