Saturday, March 2, 2024
Homeट्रेंडिंगMauni Amavasya 2024: मौनी अमावस्या पर क्यों जरूरी है नहाना? जानें महत्व...

Mauni Amavasya 2024: मौनी अमावस्या पर क्यों जरूरी है नहाना? जानें महत्व और मुहूर्त

- Advertisement -

India News(इंडिया न्यूज़), Mauni Amavasya 2024: हिंदू परंपरा में मौनी अमावस्या एक विशेश महत्व रखती है। इस साल मौनी अमावस्या 9 फरवरी, 2024 को पूरे देशभर में मनाई जाएगी। यह विशेष अमावस्या माघ महीने के दौरान आती है। इस दिन लोग पितरों और पितरों के साथ-साथ भगवान विष्णु और भगवान शिव की भी पूजा करते हैं। मौनी अमावस्या मौन का दिन है, जहां भक्त मौन व्रत रखते हैं और पूरे दिन मौन रहते हैं। यह पितृ दोष के लिए अनुष्ठान करने और जीवन में शांति और सुकून पाने का समय है। मान्यता के अनुसार, इस दिन दान धर्म कार्यों से यज्ञ और कठोर तपस्या जितने फल की प्राप्ति होती है।

मौनी अमावस्या 2024: तिथि और शुभ मुहूर्त

हिंदू पंचांग के मुताबिक, माघ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को हर साल मौनी अमावस्या मनाई जाती है। इस साल अमावस्या तिथि की शुरुआत कल सुबह 8 बजकर 2 मिनट पर होगी और समापन 10 फरवरी को सुबह 4 बजकर 28 मिनट पर होगा।

अमावस्या तिथि आरंभ: 9 फरवरी, 2024 – 08:02 पूर्वाह्न
अमावस्या तिथि समाप्त: 10 फरवरी 2024 – 04:28 पूर्वाह्न

मौनी अमावस्या का महत्व

मौनी अमावस्या का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। यह पूर्वजों का सम्मान करने और पितृ दोष को कम करने के लिए अनुष्ठान करने के लिए समर्पित दिन है, इस दिन को शुभ माना जाता है। यह पितृ दोष के लिए अनुष्ठान करने और जीवन में शांति और सुकून पाने का समय है। मान्यता के अनुसार, इस दिन दान धर्म कार्यों से यज्ञ और कठोर तपस्या जितने फल की प्राप्ति होती है।

मौनी अमावस्या की पूजा विधि

मौनी अमावस्या पर पवित्र नदी में स्नान का महत्व है। गंगा का एक बूंद जिस जल में मिल जाता है वह भी गंगाजल हो जाता है। इसलिए आप घर पर भी स्नान कर गंगा स्नान के समान पुण्य पा सकते हैं। मौनी अमावस्या की पूजा विधि इस प्रकार है।

  • दिन की शुरुआत सुबह-सुबह गंगा के पवित्र जल में स्नान से करें।
  • भगवान सूर्य को अर्घ्य दें और इच्छा हो तो पितृ दोष पूजा करें।
  • हवन और यज्ञ करना लाभकारी माना जाता है।
  • जरूरतमंदों को दान और दान को प्रोत्साहित किया जाता है।
  • गायत्री जाप का आयोजन करने से परिवार से पितृ दोष को दूर किया जा सकता है।
  • कालसर्प दोष से प्रभावित लोग इसके प्रभाव को कम करने के लिए विशिष्ट अनुष्ठान कर सकते हैं।
  • इस शुभ दिन पर गाय, कुत्ते, चींटी और कौवे जैसे जानवरों को खाना खिलाना एक आम बात है।
  • मौनी अमावस्या हिंदू संस्कृति में मौन, भक्ति और पितृ श्रद्धा के महत्व की याद दिलाती है। जैसे ही भक्त इस पवित्र दिन को मनाने की तैयारी करते हैं, वे अपने जीवन में शांति और समृद्धि के लिए आशीर्वाद मांगते हैं।

ये भी पढ़ें- Rajasthan: बोरवेल में गिरने से महिला की मौत, रातभर चला रेस्क्यु ऑपरेशन

ये भी पढ़ें- Rajasthan Budget: राजस्थान बजट पर अशोक गहलोत ने साधा निशाना, बोले- खोखली है मोदी की गारंटी

ये भी पढ़ें- Valentine’s Day: वैलेंटाइन डे अपने लवर को दें ये बजट फ्रेंडली गैजेट्स

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular